Kathariya Sandesh
Kathariya Sandesh is Nepal's no 1 Nepali news portal and Kathariya Sandesh official website.This delivers the latest breaking news and information on latest top stories, national, international, politics, sports, business, finance, entertainment, photo-gallery, audio, video and more.

आइल सावन

0 125

सावन के वेला पुरबइया कि सजनि के संघ मँगता
रिमझिम रिमझिम बरसे पानी कि भिज़ेक इ मन करता
आइल हे प्यारके मौसम कि इ दिल तुमके ढूँढ़ता।

पुरानी यादमें इ दिल हिराइक आज काहिक खुजता
सायद सावन आइल हे उही मारे तुमके याद करता
परि डोला सावनके डोलब जोडी बनके इ मन तरसता ।

आइल हे सावन चारो घइन हे हरियाली ओ पियारि
बस सवानियाँ डोला ड़ोललके याद हे केवल खाली
इ जान हे बस बचल हो ए सुनरि हरियर दुपट्टा वाली।

पइन्धके आँगीयाँ ,नहँगा,चुरबा,हुनियाँ न सरमाउ रि
पइन्धके गतिया,पउला,धोती,भिग्बा तुमके मिले ज़ाउँ रि
चले सवानियाँ गीत डोला डोलत संग आधा पाख रि।

उ दिन सायद अब लदग्याल खालि रहिगेल बात हो
जाइ मिले किँचा काँदा में बनाके डेगा आधा रात हो
कहाँ मजा रहिगेल अँख्लगनी अँख्लगनाक प्यारमें ।

अब दिल तरसत हे सवानियाँ डोलाक याद ही याद में
कुइ तो सुरु करो रे अब सवानियाँ डोला अपना गाउँ में
पुनर्जागरण ते लाउ गीत-बाँस, बोली-भाषा के नाउँ में ।

दिन आइल हे सावनके डोला डरना सजनिक गाउँ में
साथ देउ सब जने डोला डरना परम्परा बचइना बात में ।

अर्जुन सिंह कठरिया
पहलमानपुर, कैलाली

टिप्पणीहरू
Loading...